Essay on Raksha Bandhan in Hindi

रक्षाबंधन पर निबंध – Essay on Raksha Bandhan in Hindi

Essay on Raksha Bandhan in Hindi: हेलो दोस्तों! हमारे भारत देश में बहुत सारे से त्यौहार बनाए जाते हैं। सभी त्योहार अपना अपना एक महत्व रखते हैं। इन्हीं त्योहारों में से एक रक्षाबंधन का त्यौहार भी मनाया जाता है। यह त्योहार भाई बहन के प्रेम को दर्शाता है। इस त्यौहार को सभी धर्म के लोग बहुत ही खुशी वह उत्साह से मनाते हैं। यह दिन सभी बहनों के लिए बहुत ही खास होता है। इसलिए आज हमने अपने इस लेख में Raksha Bandhan Par Nibandh लिखा है| रक्षाबंधन का त्योहार 2021 में 22 अगस्त को रविवार के दिन मनाया जाएगा हम अपने लेख के माध्यम से यह बताएंगे रक्षाबंधन का त्यौहार कब, क्यों और कैसे मनाया जाता हैं।

रक्षाबंधन पर हिंदी में बेस्ट निबंध | Best Essay on Raksha Bandhan in Hindi

जानिए रक्षाबंधन का अर्थ क्या होता है?

रक्षाबंधन एक ऐसा त्यौहार है, जो अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण है। यह त्यौहार भाई बहन के पवित्र रिश्ते के प्रेम को दर्शाता है। सभी बहने इस त्यौहार का बहुत ही बेसब्री से इंतजार करती है। रक्षाबंधन का अर्थ है कि, वह बंधन जो सदैव रक्षा करें। रक्षाबंधन के दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई में एक धागा बांधती है, जिसे राखी कहा जाता है| बहन ने अपने भाई के सिर पर तिलक लगाती है, और भाई की पूजा करती है। यह राखी भाइयों के लिए बहनों के दिल में प्रेम को दर्शाती है| सभी भाई राखी बंधवा कर अपनी बहनों की सदैव रक्षा करने का वचन देते हैं।

रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है।

यह त्यौहार सावन के महीने में पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस त्यौहार को श्रावन के महीने में आने के कारण श्रावनी भी कहा जाता है।

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? रक्षाबंधन का इतिहास

इतिहास की एक पौराणिक कहानी भी है, जो श्री कृष्ण और द्रौपदी से जुड़ी हुई है। इस कहानी में श्री कृष्णा जब अपने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल का वध कर रहे थे। तब उनकी तर्जनी उंगली में चोट आ गई थी। उस समय द्रोपति ने अपनी साड़ी फाड़कर उनकी उंगली के चोट पर बांदी तब श्री कृष्ण ने भी द्रोपति को अपनी बहन मानकर उन्हें रक्षा का वचन दिया था। वह दिन सावन पूर्णिमा का दिन था। जब द्रोपदी का चीर हरण किया गया तब श्री कृष्ण ने उनकी साड़ी को बढ़ाकर अपना वचन निभाया था।        

रक्षाबंधन से ही जुड़ी हुई एक कहानी साहित्यिक भी है। जब बहादुर शाह द्वारा मेवाड़ की रानी कर्णावती पर हमला होने वाला था, तब रानी कर्णावती ने मुगल बादशाह हुमायूं को राखी भेजी थी, और अपने राज्य के रक्षा करने के लिए कहा था। तब हुमायूं एक मुसलमान होकर भी रानी कर्णावती द्वारा भेजी गई राखी का सम्मान करके, उनकी रक्षा के लिए हुमायूं से युद्ध करने को जा पहुंचे।

रक्षाबंधन के दिन क्या-क्या होता है – रक्षाबंधन की तैयारियां

सभी बहने रक्षाबंधन की तैयारी कुछ दिनों पहले से ही करने लग जाती है। बाजार भी राखियों से सज जाते हैं। बहनें अपने भाइयों के लिए सुंदर सुंदर राखियां खरीदती है। बाजार में कई प्रकार की राखियां उपलब्ध होती है। घर में कई तरह के पकवान भी बनाए जाते हैं। रक्षाबंधन के दिन सभी बहने सुबह से ही तैयारी में लग जाती है। नए-नए वस्त्र आभूषण पहन कर अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है, सिर पर तिलक लगाती है, उन्हें मिठाई खिलाती है, और हाथ में नारियल देती है। बहने अपने भाई के प्रति अपने अपार प्रेम को दर्शाती है, सभी भाई भी अपनी बहन से राखी बंधवा कर जीवन भर उनकी रक्षा करने का वचन देते हैं, और साथ ही कुछ उपहार भी बहना को दिए जाते हैं। 

जिन बहनों के भाई देश विदेश में रहते हैं, उनसे दूर रहते हैं। वह बहने भी अपने भाई के लिए राखी जरूर भेजती है, इसलिए यह राखी भी देश विदेश में सफर करती रही है। भाई चाहे दूर ही क्यों ना हो लेकिन बहन का प्यार कभी कम नहीं होता।

रक्षाबंधन का महत्व

भाई बहन का प्रेम ही रक्षाबंधन को महत्वपूर्ण बनाता है। रक्षाबंधन के दिन जहां बहने भाई की लंबी उम्र की कामना करती है, वही भाई भी अपनी बहन को रक्षा करने का वचन देते हैं। उनकी रक्षा के लिए हमेशा हाजिर रहते हैं। यह दिन बहन के लिए ही नहीं, अपितु भाई के लिए भी बहुत महत्व रखता है। 

उपसंहार

रक्षाबंधन का त्यौहार बहुत ही सुंदर और पवित्र त्यौहार है। इस त्यौहार को सभी भारतीय हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। सभी भाई बहनों के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। भाई बहन चाहे कितना ही लड़ झगड़ ले लेकिन उनके दिल में एक दूसरे के प्रति प्रेम कभी कम नहीं होता, तो इस रक्षाबंधन के दिन आप भी छोटी मोटी नोक झोंक बुलाकर एक दूसरे के साथ आए, और रक्षाबंधन के इस त्यौहार को खुलकर मनाएं।

यह भी जाने – Raksha Bandhan Poem In Hindi

तो दोस्तों! हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया लेख Raksha Bandhan Par Nibandh जरूर पसंद आया होगा। आपको यह लेख कैसा लगा आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं, और हमारे इस लेख (Essay on Raksha Bandhan in Hindi) को आप अपने भाई बहनों के साथ जरूर शेयर करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *